त्योहार पर पत्र कैसे लिखें?

भारत देश में विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ रहते हैं। इन धर्मों में मनाए जाने वाले त्योहार भी भिन्न भिन्न होते हैं। ऐसे में अपने निजी संबंधियों को त्योहार की शुभकामनाए देने के लिए जो पत्र लिखें जाते हैं, उन्हें त्योहार के पत्र कहा जाता है।

त्योहार पर पत्र क्यों लिखें जाते हैं?

नाम से ही स्पष्ट है कि ये पत्र त्योहार के पत्र है। जिन निजी संबंधियों से हम दूर रहते हैं, उन्हें त्योहारों पर शुभकामनाएं तथा शुभ आशीष देने के लिए यह पत्र लिखें जाते हैं। अर्थात्, इन पत्रों को त्योहार के अवसर पर अपने निजी संबंधियों, मित्रगणों, भाई- बंधु इत्यादि को शुभकामनाएं देने के लिए लिखा जाता है। जैसे – दीवाली की शुभकामनाएं देने हेतु मित्र को पत्र, ईद की मुबारकबाद देने के लिए अम्मी को पत्र।

त्योहार पर पत्र किसे लिखें जाते हैं?

त्योहार के पत्र अनौपचारिक पत्रों के अन्तर्गत आते हैं। अतः ये पत्र अपने सगे संबंधियों, मित्रों तथा निजी संबंधियों अथवा रिश्तेदारों को लिखें जाते हैं।

त्योहार पर पत्र कैसे लिखें जाते हैं?

1.त्योहार के पत्र अनौपचारिक पत्रों का रूप है। इसलिए इन पत्रों को लिखने के लिए अनौपचारिक पत्रों का प्रारूप चुना जाता है।

  1. इसके अतिरिक्त इन पत्रों में सरल तथा प्रेमपूर्ण भाषा शैली का प्रयोग किया जाता है।
  2. जिस भी त्योहार की शुभकामनाएं देने के लिए पत्र लिखा जा रहा है। उस त्योहार से संबंधित महत्वपूर्ण बात कर सकते हैं।
  3. इस पत्र के माध्यम से छोटों को आशीष प्रदान कर सकते हैं तथा बड़ों से आशीर्वाद को मांग कर सकते हैं।
  4. अनौपचारिक पत्र होने के कारण इनमें संबोधन, अभिवादन जैसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है। त्योहार के पत्र का उदाहरण

होली के त्योहार की शुभकामनाएं देने हेतु मित्र को पत्र।

C- 163,
अवध कॉलोनी,
राजेन्द्र नगर,
दिल्ली।

दिनांक……

प्रिय मित्र,
अशोक।
सादर नमस्कार।

आशा करता हूं कि तुम सकुशल होगे। आज होली का पर्व है। जिसकी मैं तुम्हें हृदय से शुभकामनाएं प्रदान करता हूं। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि यह पर्व तुम्हारे जीवन में खुशहाली से भरा हो।

मित्र, तुम्हें स्मरण होगा कि गत वर्ष होली के त्योहार पर मैं तुम्हारे घर पर रुका हुआ था। उस वर्ष मुझे तुम्हारी मम्मी के हाथ के बने स्वादिष्ट पकवान भी खाने को मिले थे। इस बार की होली के त्योहार पर भी मैं उनके हाथ के बने स्वादिष्ट पकवानों को याद कर रहा हूं।
मेरे ओर से तुम्हें तथा तुम्हारे समस्त परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएं। माता – पिता जी को मेरा प्रणाम कहना। मैं जल्दी ही तुम्हारे घर होली मिलने के लिए आऊंगा।


तुम्हारा शुभचिंतक,
राघव,
लखनऊ।

उम्मीद करते हैं कि आपको उपरोक्त लेख के माध्यम से त्योहार पत्र लिखने संबंधी उचित जानकारी अवश्य प्राप्त हुई होगी।

Rate this post
अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment