ओलंपिक पदक विजेताओं को तैयार करने के लिए सरकार द्वारा उठाए जाने वाले कदमों की व्याख्या करते हुए अपने छोटे भाई को पत्र लिखिए।

46/B विकास नगर,
जयपुर, राजस्थान

दिनांक :- 12/04/2021

प्रिय अनुज,
विकास।

मुझे पिछले हफ्ते तुम्हारा पत्र मिला था। यह जानकर मुझे काफी खुशी हुई कि तुमने अपने स्कूल की तरफ से जिला स्तर पर आयोजित हुई कबड्डी प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। दूसरा, तुम शुरू से ही पढ़ाई में भी काफी अच्छे हो। तुमने हाल ही में अभी 10वीं कक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया। जिस कारण तुम्हें बोर्ड परीक्षाओं में पूरे जिले में तीसरा स्थान प्राप्त हुआ। इसी तरह से तुम कबड्डी के खेल में भी काफी लगन से लगे हुए है।

मेरे भाई तुम्हें कबड्डी का खेल बचपन से ही रुचिकर लगता था। तुम्हें इस खेल को खेलने की प्रेरणा हमारे पूज्य दादाजी से मिली थी। ऐसे में मुझे याद है कि जब तुम केवल 6वीं कक्षा में थे, तब तुमने कबड्डी में अपने से अनुभवी प्रतिद्वंदी को हराया था। उस दौरान तुम्हें सांसद जी से पुरस्कार भी प्राप्त हुआ था। ठीक उसी तरह से, तुम आज भी इस खेल में काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हो। इसलिए मेरे साथ साथ माता और पिता जी को भी तुम पर पूर्णतया विश्वास है कि तुम आगे भी हमारा नाम रोशन करोगे।

आज तुम्हें पत्र लिखने का मेरा उद्देश्य केवल तुम्हें उपरोक्त बात से अवगत कराना है। तुमने इस बार देखा होगा कि कैसे टोक्यो ओलंपिक 2021 में भारत के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया। फिर चाहे वह हॉकी का खेल हो, कबड्डी, बैडमिंटन या भाला फेंक। हमारे खिलाड़ियों ने ना केवल बेहतर खेला, बल्कि देश के लिए मेडल भी जीते। जिसके चलते सरकार द्वारा कई खिलाड़ियों को धनराशि और सरकारी सुविधाएं भी प्रदान की गई। इतना ही नहीं, सरकार खिलाड़ियों को अच्छी सुविधाएं और ट्रेंनिग देने के लिए भी हर संभव प्रयास भी कर रही है। ऐसे में मैं भी तुम्हें यहीं बताना चाहता हूं कि अगर तुम अभी से खेल में अच्छा प्रदर्शन करोगे तो वह दिन दूर नहीं। जब तुम भी देश के लिए मेडल जीतकर लाओगे। जिससे ना केवल परिवार बल्कि देश और समाज को भी तुम पर बहुत गर्व होगा।

इन्हीं आशाओं के साथ कि तुम अपने जीवन के लक्ष्य को पाने के लिए अभी से लगनशील होगे। तुम्हारे बड़े भैया का साथ सदैव तुम्हारे साथ रहेगा।

सुभाशीष

तुम्हारा भाई,
रमेश,
दिल्ली।

Rate this post
अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment