अपने पिताजी की बीमारी की सूचना अपने चाचा जी को पत्र के माध्यम से दीजिए।

C-15,
अवध कॉलोनी,
गाज़ियाबाद।

दिनांक….

आदरणीय चाचा जी,
सादर नमस्कार।

आशा करता हूं कि आपके परिवार के समस्त सदस्य सकुशल होंगे। गत सप्ताह मुझे पत्र के माध्यम से आपने बताया था कि चाची जी का स्वास्थ्य उचित रूप से ठीक नहीं है। व उनके जोड़ो में अधिक दर्द बढ़ने लगा है। मैं जानना चाहूंगा कि अब उनका स्वास्थ्य कैसा है?
चाचाजी, इस पत्र के द्वारा मैं यह भी सूचित करना चाहता हूं कि गत दो दिन से मेरे पिता जी का स्वास्थ्य भी अत्यंत खराब है। तेज ज्वर चड़ गया व खांसी, जुखाम के साथ साथ बदन दर्द से भी तबियत बिगड़ने लगी। ऐसे में मैं और बड़े भैया पिता जी को पास के कैलाश अस्पताल लेकर गए। वहां डॉक्टर ने इमरजेंसी वार्ड में पिता जी की हालत को देखकर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करा लिया। रात भर पिता जी कैलाश अस्पताल में भर्ती रहें। सुबह के समय डॉक्टर ने पिता जी का ब्लड टेस्ट, शुगर टेस्ट आदि कराने का निर्देश दे दिया। जिसमें पिता जी का ब्लड टेस्ट का परिणाम 3.5 निकला व शुगर टेस्ट में शुगर का स्तर काफी अधिक आया हैं। डॉक्टर का कहना है कि हीमोग्लोबिन की मात्रा बहुत कम होने के कारण पिता जी को एनीमिया की बीमारी हो गई है। इस कारण उनकी याददाश्त पर भी अनुचित प्रभाव पड़ा है।
यदि कुछ दिन के अंदर उनकी तबियत ठीक नहीं हुई तो उनको खून की आवश्कता पड़ सकती है व अंततः पिता जी को खून की बोतल चढ़ाना महत्वपूर्ण हो जाएंगा।
फिलहाल डॉक्टर ने उन्हें दो दिन और अस्पताल में भर्ती रखने का परामर्श दिया है। ताकि उनके स्वास्थ्य को नियंत्रण में लिया जा सके।
चाचा जी, डॉक्टर का यह भी कहना है कि चिंता की बात नहीं है, खून की पूर्ति होते ही पिता जी पुनः स्वस्थ हो जाएंगे। उनकी कमजोरी व बदन दर्द में भी राहत मिल जाएंगी। डॉक्टर के द्वारा किसी भी प्रकार का परहेज नहीं बताया गया है। उनका कहना है कि शरीर में खून की कमी पूरा करने वाले समस्त विटामिन से युक्त फलों, सब्जियों आदि का उचित रूप से सेवन किया जाना चाहिए।
चाचाजी, पिता जी बहुत दिन से आपसे मिलने की इच्छुक है। आपसे आग्रह है कि समय निकाल कर आप उनसे मिलने का प्रयास अवश्य करें।
धन्यवाद।

आपका स्नेही भतीजा,
शुभम,
आगरा।

Rate this post
अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment