संपादक को पत्र कैसे लिखें?

सेवा में,
संपादक महोदय,
दैनिक भास्कर समाचार पत्र,
लखनऊ, उत्तर प्रदेश।

विषय – अपनी कविता को प्रकाशित कराने हेतु संपादक महोदय को पत्र।

मान्यवर,
सविनय निवेदन इस प्रकार है कि मैं सूरज प्रजापति, लखनऊ के मीना बाज़ार रोड स्थित नवाबी इलाके का निवासी हूं। तथा मैं परास्नातक अंतिम वर्ष का छात्र हूं।
मैं आपके समाचार पत्र का नियमित पाठक हूं। आपके समाचार पत्र द्वारा स्पष्ट, उचित तथा बेबाक खबरों को नियमित रूप से छापा जाता है। इसलिए मुझे आपके समाचार पत्र द्वारा प्रकाशित किए जाने वाले प्रत्येक लेख, समाचार तथा अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां पड़ना अच्छा लगता है।
महोदय, मेरा यह पत्र लिखने का उद्देश्य इस प्रकार है कि, मैं बचपन से ही विभिन्न कविता लेखन का प्रयास करता आया हूं। जिसका विशेष कारण यह कि मुझे बचपन से ही इस क्षेत्र में अत्यंत रुचि रही है। जिस कारण मैंने अपनी लगन तथा लगातार प्रयास से कविता लेखन के क्षेत्र में कई उपलब्धियां हासिल की है। विद्यालय तथा विश्वविद्यालय स्तर पर मैंने विभिन्न कविता लेखन प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग किया। तथा मंडल एवं राज्य स्तर पर विशेष पुरस्कार प्राप्त किया। इन्हीं प्रतियोगताओं के माध्यम से मेरी कविता लेखन में रुचि निरंतर अधिक बढ़ती गई।
मेरी लिखित कविताओं का अब तक तक विभिन्न समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, मैगजीन तथा लेखों में प्रकाशन किया जा चुका है। परंतु मेरी स्व इच्छा है कि मेरी नव रचित “उन्नति का पथ” नामक कविता आपके समाचार पत्र में भी प्रकाशित हो। तथा समस्त पाठकों तक इस कविता का स्पष्ट भाव पहुंचे।

अतः मेरा आपसे अनुरोध है कि आप अपने प्रतिष्ठित समाचार पत्र के अन्तर्गत मेरी कविता को प्रकाशित करने का कष्ट करें। आपके इस प्रयास निश्चित ही मेरे आत्मविश्वास को बढ़ावा मिलेगा। मैं उम्मीद करता हूं कि आप मुझे निराश नहीं करेंगे। इसके लिए मैं आपका आभारी रहूंगा।
सधन्यवाद।

भवदीय,
सूरज प्रजापति,
लेखक।
नवाबी इलाका,
लखनऊ उत्तर प्रदेश।
दिनांक…..

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment